sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
होमसमाचारराष्ट्रीय मुक्केबाजी

राष्ट्रीय मुक्केबाजी

बॉक्सिंग में नहीं दिखा फ्यूचर, अब इस खेल में जीता गोल्ड मैडल

मुक्केबाजों की कहानी हमेशा से ही प्रेरणादायक रही है पर आज हम आपको एक ऐसे एथलिट के बारे में बताएंगे, जिन्होनें मुक्केबाजी से अपने करियर की शुरुआत की ओर भारोत्तोलन यानि की वेटलिफ्टिंग में गोल्ड मेडल जीता। भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य के सुदूर पूर्वी कामेंग जिले के एक किसान के घर जन्मे सैम्बो, एक निम्न-मध्यम वर्गीय परिवार में छह लड़कों और तीन लड़कियों में तीसरे स्थान पर हैं। उन्होंने अपनी एथलीट बहन चितुंग लापुंग की तरह ही खेलों को ही अपना करियर अपनाया। अरुणाचल...

नीरज गोयाती: मैंने विजेंदर सिंह से ज्यादा कठिन लड़ाईयां लड़ी हैं

नीरज गोयत भारतीय बॉक्सिंग के चमकते सितारो में से एक ऐसा नाम जिसने तीन बार की विश्व मुक्केबाजी परिषद (WBC) एशियाई चैंपियन हैं, और 2012 में पेशेवर बनने के बाद से प्रो बॉक्सिंग सर्किट में भारत का लगातार नाम रोशन किया है। साथ हीं प्रो बॉक्सिंग में न्यूजीलैंड के ओबेदी मागुची के खिलाफ विजयी वापसी करने जैसे कई खिताब दर्ज हैं। दो साल पहले मार्च 2020 में एक कार दुर्घटना के बाद मैच, गोयत ने हाल ही में थाईलैंड में एक प्रो...

भारतीय बॉक्सर शिवा ठकरान ने जीता WBC एशिया कॉन्टिनेंटल खिताब

भारतीय मुक्केबाज पूरी दूनियां भर में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं ऐसी हीं एक खबर आई है, जिसमें पता चला है कि भारतीय सुपर मिडलवेट मुक्केबाज शिवा ठकरान ने मलेशिया में नॉकआउट (TKO) जीत हासिल करने के बाद WBC एशिया कॉन्टिनेंटल चैंपियन का खिताब अपने नाम कर लिया है। भारतीय मुक्केबाज शिवा ठकरान ने बीते बुधवार को पूर्व दक्षिण पूर्व एशियाई खेलों के पदक विजेता पर आठवें दौर की स्टॉपेज जीत के साथ, एशियाई प्रो मुक्केबाजी सर्किट में अपनी जीत...

भारतीय सेना में शामिल हुई पहली भारतीय महिला मुक्केबाज

भारतीय सेना में इससे पहले कई बड़े मुक्केबाज शामिल हो चुकें हैं,लेकिन जैस्मिन लैंबोरिया सेना में शामिल होने वाली पहली भारतीय महिला मुक्केबाज बनीं है। जैस्मीन लेम्बोरिया ने CWG खेलों 2022 में अपने हालिया कांस्य पदक के बाद भारतीय सेना में शामिल होने वाली पहली महिला मुक्केबाज बनकर इतिहास रच दिया है। इससे पहले भारतीय सेना में अमित पंघाल, मोहम्मद हुसामुद्दीन और मनीष कौशिक जैसे कई चैंपियन मुक्केबाज शामिल हो चुके हैं। लेकिन इसमें कभी भी महिला मुक्केबाजी शामिल नहीं हुई थी।...

एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप 2022 के लिए भारतीय टीम की घोषणा

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन और कई एशियाई पदक विजेता शिव थापा प्रमुख मुक्केबाज, जिन्होंने 30 अक्टूबर से 12 नवंबर तक जॉर्डन के अम्मान में होने वाली एशियाई चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम में जगह बनाई है। कॉमनवेल्थ गेम्स में 70 किग्रा में भाग लेने वाली लवलीना ने 2024 के पेरिस ओलंपिक को ध्यान में रखते हुए 75 किग्रा तक का वजन बढ़ाया है। जबकि शिवा शनिवार को NIS पटियाला में संपन्न ट्रायल में 63.5 किग्रा तक टिके रहे। राष्ट्रमंडल खेलों के...

मैरी कॉम ने सरकार से अपना नाम TOPS सूची से हटाने का अनुरोध किया

मैरी कॉम ने सरकार से अपना नाम TOPS सूची से हटाने का अनुरोध किया।मैरी कॉम ने वर्षों से उनके समर्थन के लिए सरकार को धन्यवाद दिया और कहा कि यह समय युवा मुक्केबाजों को उनके बजाय अपने ओलंपिक सपने का पीछा करने देने का है। मुझे कई वर्षों में सरकार से बहुत समर्थन मिला है, लेकिन मुझे लगता है कि यह एक युवा एथलीट को ओलंपिक सपने का पीछा करने के लिए समर्थन देने का समय है। इसलिए, मैं मिशन ओलंपिक...

BFI:महिला प्रतिभा तलाश के लिए आयोजित होगा Zonal Championship

भारतीय खेल प्राधिकरण के सहयोग से बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया पांच ओपन जोनल चैंपियनशिप आयोजित करेगा, जिसमें लगभग 3000 युवा और जूनियर महिला मुक्केबाजों के भाग लेने की उम्मीद है। अगले महीने से शुरू होने वाली चैंपियनशिप, देश भर से नई प्रतिभाओं का पता लगाने के लिए BFI और SAI की एक संयुक्त पहल है। प्रतियोगिताएं जूनियर गर्ल्स और यूथ वुमन कैटेगरी में होंगी। यह व्यापक जमीनी स्तर की पहल 15 सितंबर से गुवाहाटी के साई क्षेत्रीय केंद्र में आयोजित होगी, खेलो इंडिया ईस्ट...

चोट से उबरे मुक्केबाज Vikas Krishan, Asian games पर होगी नजर

Vikas Krishan कुछ समय पहले लगी कंधे की चोट से 30 वर्षीय, विकाश  जो अब स्वस्थ्य हो चुके हैं। एशियाई खेलों में चौथा पदक जीतने के लिए उनकी तैयारी शुरु हो चुकी है," विकास ने पीटीआई को बताया कि "मेरा तात्कालिक लक्ष्य एशियाई खेल और लंबा है टर्म उद्देश्य पेरिस ओलंपिक है। वहां सिर्फ एक ही है पदक मेरे जीतने के लिए बचा है और वह एक ओलंपिक है "मैंने इस सप्ताह की शुरुआत में फाईट किया और मुझे लगता है कि मैं...

भारत की 13 सदस्यीय एलीट पुरुष बॉक्सिंग टीम ने ईरान में प्रशिक्षण शुरू किया एशियाई चैंपियनशिप के सिल्वर पदक विजेताओं के नेतृत्व में

भारत की 13 सदस्यीय एलीट पुरुष बॉक्सिंग टीम ने ईरान में प्रशिक्षण शुरू किया, एशियाई चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता दीपक कुमार भोरिया (51 किग्रा) और कविंदर सिंह बिष्ट (57 किग्रा) के नेतृत्व में रविवार से ईरान के 10 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर-सह-प्रतियोगिता दौरे से गुजरना होगा। बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) ने देश के कुलीन पुरुष मुक्केबाजों के लिए शिविर की व्यवस्था की है, जिसमें थाईलैंड ओपन के स्वर्ण पदक विजेता गोविंद कुमार साहनी (48 किग्रा), अनंत चोपडे (54 किग्रा),...

किकबॉक्सर योरा टाडे का एक बाउट के दौरान चोटिल होने के बाद हुआ निधन।

अरुणाचल प्रदेश के 23 वर्षीय किकबॉक्सर योरा ताडे ने वाको इंडिया किकबॉक्सिंग चैंपियनशिप में एक मुकाबले के दौरान चोटिल होने के बाद अंतिम सांस ली। योरा ताडे लड़ाई के दौरान होश खोने के बाद 21 अगस्त को चेन्नई के एक अस्पताल में ले जाने के बाद सोमवार की रात उनकी सर्जरी हुई। पोस्टमॉर्टम समेत सभी जरूरी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद टाडे का शव ईटानगर लौटाया जाएगा। thebridge.in अरुणाचल के मुख्यमंत्री ने राज्य के खेल सचिव को तमिलनाडु सरकार, केंद्रीय खेल और युवा...

मैरी कॉम बनाम सरिता देवी: दोस्ती से दुश्मनी तक का सफर

मैरी कॉम बनाम सरिता- सरिता देवी और मैरी कॉम की अच्छी दोस्त थीं, इससे पहले बॉक्सिंग ने उनके बीच एक दरार पैदा कर दी थी जो अभी भी ठीक नहीं हुई है। सरिता का कहना है कि इस खेल ने मैरी को भले ही बहुत प्रसिद्धि दिलाई हो, लेकिन उसे यह नहीं भूलना चाहिए कि यह सब कैसे शुरू हुआ। मैरी कॉम बनाम सरिता - मैरी कॉम और सरिता देवी, भारतीय मुक्केबाजी की दो प्रमुख महिलाएँ। एक ही सामाजिक पृष्ठभूमि से आने वाले,...

भारतीय बॉक्सिंग के ‘नवरत्न’

अगर आप में भी बॉक्सिंग का हुनर है और आप बॉक्सिंग की दुनिया में भारत का नाम रोशन करना चाहते हैं तो आपकी भी कहानी दुनियां एक दिन जरुर सुनेगी, पढ़ेगी। भारतीय बॉक्सिंग पर सबसे अलग छाप छोड़ने वाले और दुनियां भर में भारतीय बॉक्सिंग का परचम लहराने वाले कुछ महान खिलाड़ी जिनकी कहानी आपको प्रेरणा देगी। 1.हवा सिंह उन्हें कैप्टन हवा सिंह भी कहा जाता है। वह एक भारतीय हैवीवेट मुक्केबाज थे और अक्सर उन्हें भारतीय मुक्केबाजी का जनक माना जाता था। उन्होंने...

भारत में बॉक्सिंग का इतिहास

भारत में क्रिकेट, टेनिस या फ़ुटबॉल जैसे अन्य खेलों की तरह बॉक्सिंग का अधिक प्रचार और प्रशंसक नहीं है। ऐतिहासिक रूप से, प्राचीन भारत में विभिन्न प्रकार की मुक्केबाजी मौजूद थी। मुस्ति-युद्ध का सबसे पहला संदर्भ शास्त्रीय वैदिक महाकाव्यों जैसे रामायण और ऋग्वेद से मिलता है। महाभारत में दो लड़ाकों का वर्णन है जो मुट्ठी बंद करके मुक्केबाजी करते हैं और किक, उंगली के प्रहार, घुटने के प्रहार और सिर के बट से लड़ते हैं। युगल (नियुधम) अक्सर मौत के लिए लड़े जाते...

लवलीना बोर्गोहिन की बॉक्सिंग मे आने की कहानी और उनका प्रयास।

लवलीना बोर्गोहेन एक भारतीय शौकिया महिला मुक्केबाज हैं। असम के गोलाघाट जिले की रहने वाली, उनका जन्म माता-पिता टिकेन और मामोनी बोरगोहेन के घर हुआ था, जो एक छोटे पैमाने का व्यवसाय चलाते हैं। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत एक किकबॉक्सर के रूप में की थी, लेकिन मौका मिलने पर उन्होंने बॉक्सिंग की ओर रुख किया। उसके दो बड़े जुड़वां भाई-बहन हैं जिनका नाम लीचा और लीमा है, जिन्होंने किकबॉक्सिंग में राष्ट्रीय स्तर पर भी प्रतिस्पर्धा की, लेकिन इससे आगे नहीं...

मुक्केबाज सागर अहलावत ने अंतरराष्ट्रीय पदार्पण पर सिल्वर पदक की जीत की कहानी।

भारतीय मुक्केबाज सागर अहलावत ने बर्मिंघम में चल रहे राष्ट्रमंडल खेल 2022 में पुरुषों के ओवर 92 किग्रा वर्ग के फाइनल में रजत पदक पर कब्जा किया। सागर ने इंग्लैंड के डिलीशियस ओरी के खिलाफ 0-5 अंक पर जीत के माध्यम से हार का सामना करने के बाद सिल्वर पदक के लिए समझौता किया। सागर ने पहले दौर में शानदार शुरुआत की। हालांकि उनके अंग्रेजी प्रतिद्वंद्वी हमेशा विवाद में थे, भारतीय बेहतर मुक्केबाज थे क्योंकि न्यायाधीशों ने सागर के पक्ष...

2008 से भारत मे बॉक्सिंग की फैसिलिटी मे कोइ बदलाव नही बोले’ विजेंदर सिंह’

ओलंपिक मे भारत के लिए पदक जीतने वाले विजेंदर सिंह ने बहुत बढ़ी बात सामने रखी उन्होंने कहा हैं कि भारत मे मुक्केबाज़ी के शेत्र मे कोई बदलाव नही हुआ है। ओलंपिक पदक विजेता विजेंदर सिंह ने घाना के एलिसाउ सुले के खिलाफ बड़ी जीत के साथ प्रो बॉक्सिंग में वापसी की। उन्होंने अपने प्रो बॉक्सिंग करियर की 13वीं जीत का दावा करने के लिए दूसरे दौर में अपने प्रतिद्वंद्वी को नॉकआउट किया। विजेंदर ने एक इंस्टाग्राम लाइव इंटरेक्शन में कहा,...

मुक्केबाज लैशराम सरिता देवी की जीवनी, नेट वर्थ 2022

1 मार्च, 1982 को जन्मी लैशराम सरिता देवी एक भारतीय मुक्केबाज, पूर्व विश्व चैंपियन और साथ ही लाइटवेट डिवीजन में राष्ट्रीय चैंपियन हैं। 38 वर्षीय, भारतीय मुक्केबाजी में सबसे अधिक सजाए गए नामों में से एक, शीर्ष पर अपनी यात्रा पर खुलती है। लैशराम सरिता देवी (जन्म 1 मार्च 1982) मणिपुर की एक भारतीय मुक्केबाज हैं। वह एक राष्ट्रीय चैंपियन और लाइटवेट वर्ग में पूर्व विश्व चैंपियन हैं। 2009 में, उन्हें उनकी उपलब्धियों के लिए भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार से...

भारतीय धाकड़ मुक्केबाज विजेंदर सिंह की जीवनी

भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह बेनीवाल भारत के सबसे मजबूत और मशहूर मुक्केबाजों में से एक हैं, जिन्होंने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी स्पर्धाओं में भारत की अगुवाई की है। उन्होंने प्रसिद्ध भारतीय मुक्केबाज जगदीश सिंह के मार्गदर्शन में खुद को प्रशिक्षित किया। मुक्केबाजी में पहला ओलंपिक पदक (कांस्य) हासिल किया,2008 के बीजिंग ओलंपिक खेल। विजेंदर सिंह का बचपन विजेंदर सिंह का जन्म 29 अक्टूबर 1985 को कालूवास हरियाणा में हुआ था उनके पिता हरियाणा रोडवेज में बस ड्राइवर के रूप में काम करते थे,उसका एक बड़ा...

भारतीय मुक्केबाजी दल – राष्ट्रमंडल खेल (CWG)

भारतीय मुक्केबाजी दल, जो राष्ट्रमंडल खेलों (2022 राष्ट्रमंडल खेलों) में भाग लेने के लिए अच्छा है, ने शुरुआती दौर के लिए अपने प्रतिद्वंद्वियों को ले लिया है। स्पष्ट करने के लिए, 2022 CWG 28 जुलाई से 8 अगस्त तक यूनाइटेड किंगडम के बर्मिंघम में चलेगा। इसके अलावा, ओलंपिक कांस्य पदक विजेता लवलीना बोर्गोहेन के नेतृत्व में एक प्रथम श्रेणी 12-भाग मुक्केबाजी दल। खिताब धारक निकहत जरीन और पांच बार के एशियाई पदक विजेता शिव थापा 2022 राष्ट्रमंडल खेलों में...