sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजीJoe joyce वर्ल्ड टाइटल के लिए लड़ना चाहते है

Joe joyce वर्ल्ड टाइटल के लिए लड़ना चाहते है

Joe joyce वर्ल्ड टाइटल के लिए लड़ना चाहते है, joe joyce इस साल उस्यक् और टाइसं के विजयता की और रुख करते हुए नज़र आते दिखाई दे रहे है। और इसी बीच वो क्लार्क से अपेक्षा करते है कि वो उनके ओलंपिक प्रतिद्वंदी टोनी योका को हरा दे। जिससे उनका बदला पुरा हो जाए और उन्होंने अपने इस साल के प्लेंस के बारे मे जिकृ किया कि वो और क्या आगे करने की सोच रहे है।

Joyce ने बताए अपने बहुत सारे प्लेंस

Joyce ने अपने पुराने GB मैट साथी क्लार्क से ये अपेक्षा रखते है कि वो उनके प्रतिद्वंदी टोनी योका को हरा दे। इसका कारण भी है 2016 के ओलंपिक खेल मे फ्रांस के टोनी योका ने Joyce को बड़े ही मलिन मार्जिं से जीत हासिल की थी। पर वो निर्णय Joyce के हक मे भी जा सकता था जो नही गया।, जिस बात से वो काफी नाराज थे।क्लार्क ने पिछले साल के ओलंपिक खेलों में सुपर-हैवीवेट ब्रॉनज पदक जीता था और अब वह मैनचेस्टर में 25 मार्च को एक प्रोफारेशनल के रूप में 6-0 से आगे बढ़ना चाहेंगे।

उसके बाद Joyce चाहते है की की वो योका से लड़े, उन्होंने फ्रेज़र से विनती की है कि फ्रेज़र मेरे भाई कृप्या करके किसी भी तरीके से योका को हरा दो। वो मानते है कि वो एक बढ़िया लडाई मे एक मुझे खुशी है कि फ्रेज़र अब ठीक हो गया है और वह काम करना शुरू कर रहा है और अपना रास्ता चुन रहा है। यहां तक ​​कि योका के साथ लड़ाई में भी, वह मेरे लिए योका को हरा सकता था यही मे चाहता हूँ।

पढ़े : Benn ने बॉक्सिंग बोर्ड ऑफ कंट्रोल को दी बड़ी धमकी

उसके कुछ अच्छे झगड़े हैं, मैं उसे ब्रिटिश चैंपियन फैबियो वार्डले के खिलाफ देखना चाहता हूं, वहां सोल डकरेस, नाथन गोर्मन हैं। वे ऐसे झगड़े भी हैं जो वह बहुत जल्द कर सकते थे, वे दिलचस्प झगड़े हैं जो उसके लिए रास्ते में हैं।वे इस तरह के झगड़े हैं जो क्लार्क को जॉयस के साथ भी संभावित लड़ाई की ओर ले जाएंगे। उन्होंने शुरूआती तौर पर कई बार बॉक्सिंग की और जॉयस उन्हें प्रोफारेशनल में उस प्रतिद्वंद्विता को जागरूक करते हुए देख सकते थे।

वैसे Joyce ने उनके शुरूआती दिन के सारे मुकाबले जीते हैहै, Joyce का मानना है कि क्लार्क अब पहले जैसा नही है प्रोफारेशनल बॉक्सिंग मे उसकी दार और भी मजबूत हुई है।पहली लड़ाई आसान जीत थी, मैंने उसे रोका, उसकी आंख सूज गई। लेकिन वह जाते जाते कठिन होता गया, मुझे लगता है कि उसकी मानसिकता के साथ। वह मुझसे छोटा है और वह पहले जीबी पर था। मैंने उसे आने में लगभग मदद की उसने भी कही इसमे मेरा होसला बढ़ाया था।

  • बॉक्सिंग चैंपियनशिप
  • WBC
Satish Kumar
Satish Kumarhttps://boxingpulse.net/
बॉक्सिंग मेरा पैशन है। मैं बॉक्सिंग और बॉक्सिंग की कहानियों के बारे में लिखता हूं। और मुझे आपके साथ बॉक्सिंग पर अपने विचार साझा करना अच्छा लगता है।
संबंधित लेख

सबसे अधिक लोकप्रिय