sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
अन्य कहानियांक्यों भूटान ओलंपिक समिति ने खोली बॉक्सिंग अकादमी यहां जानें

क्यों भूटान ओलंपिक समिति ने खोली बॉक्सिंग अकादमी यहां जानें

विश्व भर में मुक्केबाजी अपनी चरम पर है और दुनियां भर के मुक्केबाज वैश्विक स्तर पर चल रहे चैंपियनशिप में भाग लेकर अपने देश का नाम रोशन कर पदक हासिल कर रहे हैं। मुक्केबाजों की इन उपलब्धियों को देखते हुए दुनियां भर के युवाओं को प्रेरणा मिल रही है।

यह भी पढ़ें– महिला मुक्केबाज निकहत जरीन को मिला अर्जुन अवॉर्ड 2022

भूटान ओलंपिक समिति ने खोली बॉक्सिंग अकादमी

बॉक्सिंग की बेहतरी और बढ़ावे को लेकर पूरी दूनियां भर के देशों में हलचलें देखी जा रही है। ताजा जानकारी भूटान की है जहां भूटान ओलंपिक समिति (बीओसी) ने चुंदू सशस्त्र बल पब्लिक स्कूल के साथ मिलकर एक मुक्केबाजी अकादमी खोली है।

यह मुक्केबाजी अकादमी केंद्र एक नवनिर्मित हॉल में ट्रेनिंग प्रदान करेगा और 11 लड़कियां और 11 लड़को से इसको प्रारंभ किया जा रहा है। लेकिन आने वाले वर्षों में युवा मुक्केबाजों की संख्या बढ़ने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें– महिला मुक्केबाज निकहत जरीन को मिला अर्जुन अवॉर्ड 2022

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति सदस्य को श्रेय

यह फैसला यह इस साल की शुरुआत में बीओसी और स्कूल के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने के बाद आया है। नई अकादमी रॉयल भूटान आर्मी, बीओसी और भूटान बॉक्सिंग फेडरेशन द्वारा समर्थित की गई है।

2009 से बीओसी का नेतृत्व करने वाले अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के सदस्य प्रिंस जिगेल उग्येन वांगचुक को इस परियोजना को प्रेरित करने का श्रेय दिया गया है।

यह भी पढ़ें– महिला मुक्केबाज निकहत जरीन को मिला अर्जुन अवॉर्ड 2022

निर्माण पर आयोजकों का बयान

आयोजकों ने कहा, “अकादमी का निर्माण “स्कूलों में मुक्केबाजी शुरू करने और हमारे युवा लड़कों और लड़कियों को मुक्केबाजी में भाग लेने, विकसित करने और उत्कृष्ट प्रदर्शन करने का अवसर प्रदान करने के लिए किया गया है।

यह बॉक्सिंग अकादमी केंद्र को शुरू में एक साल के पायलट कार्यक्रम के रूप में चलाया जाएगा।

यह भी पढ़ें– महिला मुक्केबाज निकहत जरीन को मिला अर्जुन अवॉर्ड 2022

2012 के बाद से भूटान के मुक्केबाज ओलंपिक में नहीं

भूटान ने पहली बार 1984 में ओलंपिक में भाग लिया था लेकिन केवल 2012 तक ही तीरंदाजी में प्रतियोगियों को इसमें भाग लेने को भेजा था।

राष्ट्र ने अभी तक किसी भी मुक्केबाज को ओलंपिक में नहीं भेजा है, हालांकि फ्लाईवेट तेनज़िन ड्रगयेल ने इस महीने की शुरुआत में अम्मान में एशियाई चैंपियनशिप में पांचवां स्थान हासिल किया था।

यह भी पढ़ें– महिला मुक्केबाज निकहत जरीन को मिला अर्जुन अवॉर्ड 2022

Dheeraj Roy
Dheeraj Royhttps://boxingpulse.net/
मैं शहर का नया बॉक्सिंग पत्रकार हूं। सभी चीजों-मुक्केबाजी पर अंतर्दृष्टिपूर्ण, रोशनी वाली रिपोर्टिंग की अपेक्षा करें।
संबंधित लेख

सबसे अधिक लोकप्रिय