sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
अन्य कहानियांपरीक्षा पास कर IBA में अधिकारी बनीं डॉ. सोनिया कंवर जरियाल

परीक्षा पास कर IBA में अधिकारी बनीं डॉ. सोनिया कंवर जरियाल

भारत में मुक्केबाजी अपने चरम पर है जहां एक और भारतीय महिला मुक्केबाज दूनियां भर से गोल्ड मेडल लाकर भारत का नाम रोशन कर रही है।

तो वहीं दूसरी ओर IBA में परीक्षा पास कर 44 वर्षीय डॉ. सोनिया कंवर जरियाल भारतीय महिला मुक्केबाज ने भारत की महिलाओं को अपने सपनों के प्रति प्रेरणा का एक और रास्ता दिखाया है।

यह भी पढ़ें– IBA यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप: फाइनल में पहुंचे 21 देश

डॉ. सोनिया कंवर जरियाल  को IBA से मेल

मिली जानकारी के मुताबिक 24 नवंबर को डॉ. सोनिया कंवर जरियाल को इंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसिएशन (आईबीए) की ओर से ईमेल मिला, जिसमें लिखा था कि उन्होंने आईबीए 3 स्टार रेफरी और जज की परीक्षा पास कर ली है।

पिछले महीने स्लोवेनिया के मेरिबोर में आईबीए द्वारा इस परीक्षा का आयोजन किया गया था। अपनी इस उपलब्धि के बाद डॉ सोनिया रेफरी परीक्षा पास करने वाली भारत की पहली महिला मुक्केबाजी अधिकारी बन गई हैं।

यह भी पढ़ें– IBA यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप: फाइनल में पहुंचे 21 देश

परीक्षा में पास होने पर परिवार में खुशी का माहौल

परीक्षा में पास होने की जानकारी के बार में उन्होनें सबसे पहले पूर्व जूडो और मुक्केबाज अपने पति राजीव जरियाल और बच्चों नायशा जरियाल और बच्चों को बताया। इस परिणाम से परिवार में बेहद खुशी का माहौल है।

डॉ. सोनिया कंवर जरियाल ने कहा मुक्केबाजी में रेफरी के रूप में यह मेरे लिए एक लंबी यात्रा रही है। स्लोवेनिया में परीक्षा देने के बाद से रिजल्ट को लेकर मुझे काफी समय से इंतजार है।

मेरे दोनों बच्चे मुझे राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अंपायरिंग करते हुए देखने के लिए हमेशा उत्साहित रहते हैं और वे भी मेरे पति के साथ परिणाम की प्रतीक्षा कर रहे थे।

यह भी पढ़ें– IBA यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप: फाइनल में पहुंचे 21 देश

बाउट के नियमों और आचरण पर डॉ सोनिया ने कहा

शुरुआत में मैंने भी कुछ गलतियां कीं क्योंकि रिफ्लेक्स सिस्टम तेज नहीं था। एक रेफरी के रूप में, हमारी मुख्य चिंता मुक्केबाजों की सुरक्षा है।

हालांकि पुरुष मुक्केबाज आमतौर पर महिला मुक्केबाजों की तुलना में अधिक आक्रामक होते हैं, लेकिन उन्हें सिर में अधिक चोट लगने या कटने का भी खतरा होता है। इसलिए हमें बाउट के नियमों और आचरण के अलावा उस पहलू का भी ध्यान रखना होगा।

यह भी पढ़ें– IBA यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप: फाइनल में पहुंचे 21 देश

खेलो इंडिया यूथ गेम्स में भी डॉ. सोनिया कंवर जरियाल

कई खेलों के साथ डॉ. सोनिया ने हाल ही में खेलो इंडिया यूथ गेम्स में भी अंपायरिंग की है।

पिछले 18 वर्षों में, उन्होंने 2012 के लंदन ओलंपिक कांस्य पदक विजेता और छह बार की विश्व चैंपियन मैरी कॉम के अलावा वर्तमान विश्व चैंपियन निकहत ज़रीन के साथ अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों में भाग लिया है।

यह भी पढ़ें– IBA यूथ वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप: फाइनल में पहुंचे 21 देश

Dheeraj Roy
Dheeraj Royhttps://boxingpulse.net/
मैं शहर का नया बॉक्सिंग पत्रकार हूं। सभी चीजों-मुक्केबाजी पर अंतर्दृष्टिपूर्ण, रोशनी वाली रिपोर्टिंग की अपेक्षा करें।
संबंधित लेख

सबसे अधिक लोकप्रिय