sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
राष्ट्रीय मुक्केबाजीआगामी एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप पर बर्नार्ड ड्यून का बयान

आगामी एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप पर बर्नार्ड ड्यून का बयान

बीते कुछ दिनों पहले ही BFI ने भारतीय मुक्केबाजी के लिए उच्च प्रदर्शन के निदेशक के रूप में ओलंपिक और विश्व चैंपियन आयरिश मुक्केबाजी के दिग्गज बर्नार्ड ड्यूनी को नियुक्त किया था.

आयरिशमैन के बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया में शामिल होना भारतीय मुक्केबाजी के विकास में एक महत्वपूर्ण कदम माना गया.

जॉर्डन में आयोजित एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप

आगामी एशियाई चैंपियनशिप को लेकर नवनियुक्त बर्नार्ड ड्यूने का कहना है कि यह चैंपियनशिप भारतीय मुक्केबाजों के लिए यह दिखाने का अवसर होगा कि उनमें पेरिस ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने की क्षमता कितनी है।

हाल में समाप्त हुए राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय मुक्केबाजों का शानदार प्रदर्शन रहा अब भारतीय मुक्केबाज इस सप्ताह के अंत में जॉर्डन में शुरू होने वाली एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के लिए मुकाबला करने उतरेंगे।

इस पर बर्नार्ड ने कहा मैं एक अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद कर रहा हूं, इन खेलों से यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि कि हम क्या कर सकते हैं, उनकी क्षमता क्या है यह सिर्फ पदक जीतने के बारे में नहीं है, यह एथलीटों के लिए बड़ा अवसर है।

ये भी पढ़ें- रूस और बेलारूस मुक्केबाज युवा विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप से बाहर

भारतीय मुक्केबाज बेहद मेहनती

उन्होंने कहा, मैं यह देखने के लिए प्रदर्शन की तलाश में हूं कि हमारी टीम इसके लिए कैसे तैयार है, हम प्रतियोगिताओं के लिए कैसे तैयारी करते हैं आयरिश मुक्केबाजी के दिग्गज ने कहा कि,

भारतीय मुक्केबाजों के साथ पहले भी काम कर चुके हैं पहले भी कैंप का हिस्सा होने के कारण खिलाड़ी मेरे देश आए, हमने जर्मनी, अमेरिका में एक साथ ट्रेनिंग लिया।

मैंने भारतीय एथलीटों और कोचों के साथ काम करते हुए देखा और जो मुझे पसंद आया वह था कि हर कोई हर कोई बेहद मेहनती रहा है, वे बहुत प्रतिभाशाली और प्रेरित हैं, वे प्रदर्शन को अधिकतम करने के लिए वह सब कुछ देना चाहते हैं जो उनके पास है।

ये भी पढ़ें- रूस और बेलारूस मुक्केबाज युवा विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप से बाहर

छोटे लक्ष्य के साथ चलेंगे ड्यून

ड्यून ने कहा वो अपने और मुक्केबाजों के लिए छोटे और दीर्घकालिक लक्ष्य निर्धारित किए हैं उन्होमें कहा स्पष्ट रूप से पेरिस ओलंपिक मेरे लिए एक प्राथमिकता है.

भारतीय मुक्केबाज अक्सर ओलंपिक में लड़खड़ाते रहे हैं, लेकिन ड्यून का मानना ​​है कि सबसे पहले चीजों को नियंत्रित करने पर ध्यान देना चाहिए और पदक उसके बाद आएगा।

ये भी पढ़ें- रूस और बेलारूस मुक्केबाज युवा विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप से बाहर

Dheeraj Roy
Dheeraj Royhttps://boxingpulse.net/
मैं शहर का नया बॉक्सिंग पत्रकार हूं। सभी चीजों-मुक्केबाजी पर अंतर्दृष्टिपूर्ण, रोशनी वाली रिपोर्टिंग की अपेक्षा करें।
संबंधित लेख

सबसे अधिक लोकप्रिय