sponsor banner
sponsor
ads banner
sponsor banner
sponsor
ads banner
राष्ट्रीय मुक्केबाजीगोल्ड जीत के बाद लवलीना ने किया अपने अंतिम लक्ष्य का खुलासा

गोल्ड जीत के बाद लवलीना ने किया अपने अंतिम लक्ष्य का खुलासा

हाल में ही हुए अम्मान, जार्डन ASBC एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप 2022 में भारतीय महिलाओं ने शानदार प्रदर्शन किया. चैंपियनशिप में गोल्ड जीतने के बाद स्टार भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोर्गोहेन ने सोमवार को पत्रकारों से बात की।

यह भी पढ़ें- मैरी कॉम सहित 10 एथलीट IOA आयोग के लिए चुने गए

नए भार वर्ग में जीता पहला टूर्नामेंट

एशियाई चैंपियनशिप का स्वर्ण पदक जीतना मेरा लिए बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि उन्होंने इस बार चैंपियनशिप में नए भार वर्ग में अपना पहले टूर्नामेंट में जीत के बाद यह दावा किया कि यह अपनी खोई हुई फॉर्म को वापस पाने के लिए “निर्णायक भूमिका” निभाएगा।

बता दें कि भारतीय मुक्केबाज लवलीना पिछले साल टोक्यो में ओलंपिक कांस्य पदक जीतने के बाद खराब फॉर्म से जूझ रही हैं.

उन्होंने पेरिस ओलंपिक को ध्यान में रखते हुए अपना वजन वर्ग 69 किलोग्राम से बदलकर 75 किलोग्राम कर लिया क्योंकि उनका डिवीजन महिला मुक्केबाजी के लिए घोषित छह श्रेणियों में शामिल नहीं है।

यह भी पढ़ें- मैरी कॉम सहित 10 एथलीट IOA आयोग के लिए चुने गए

खोई हुई फॉर्म पाकर बेहद खुश- लवलीना

मुक्केबाजी में गोल्ड जीतने वाली लवलीना ने सोमवार देश लौटने के बाद पीटीआई से कहा, यह स्वर्ण पदक मेरे लिए जरूरी था क्योकि इस जीत के बाद मैं अपनी खोई हुई फॉर्म को वापस पाकर बेहद उत्साहित हूं। यह आत्मविश्वास बढ़ाने वाला है।

साथ ही लवलीना ने कहा कि नए भार वर्ग में यह मेरी पहली चैंपियनशिप थी और मैंने इसमें गोल्ड जीत लिया है इसके साथ ही मुझे पता चल गया है कि,

मैं सही दिशा में काम कर रही हूं मैं फॉर्म में वापसी कर रही हूं और मैं जल्द ही टॉप पर पहुंचने के लिए हर संभव प्रयास करुगी।

भारत में होगा विश्व मुक्केबाजी चैंपियंनशिप

बता दें कि बोर्गोहेन के पास दो एशियाई चैंपियनशिप कांस्य पदक भी हैं साथ ही अपने खेल पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि वह और सुधार करने की कोशिश करेंगी और अगले साल होने वाली विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने के हर संभव प्रयास करेंगी।

अगले साल होनें वाला महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियन नई दिल्ली में आयोजित किया जाएगा, इस पर बात करते हुए कहा कि फिलहाल मेरा लक्ष्य अगले साल की विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतना है।

यह भी पढ़ें- मैरी कॉम सहित 10 एथलीट IOA आयोग के लिए चुने गए

लवलीना का अंतिम लक्ष्य पेरिस ओलंपिक 2024 में गोल्ड

अपने अंतिम लक्ष्य पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि मेरा अंतिम लक्ष्य पेरिस ओलंपिक में स्वर्ण जीतना है। और मैं इसे करके दिखाऊंगी जिसके लिए मैं कड़ी मेहनत कर रही हूं.

एशियाई चैंपियनशिप में महिलाओं का दबदबा

हाल में समाप्त हुए चैंपियनशिप में भारत ने 12 पदक जीते जिसमें चार स्वर्ण, दो रजत और छह कांस्य जीते। दिलचस्प बात यह है कि चारों स्वर्ण पदक महिला मुक्केबाजों ने जीते।

यह भी पढ़ें- मैरी कॉम सहित 10 एथलीट IOA आयोग के लिए चुने गए

Dheeraj Roy
Dheeraj Royhttps://boxingpulse.net/
मैं शहर का नया बॉक्सिंग पत्रकार हूं। सभी चीजों-मुक्केबाजी पर अंतर्दृष्टिपूर्ण, रोशनी वाली रिपोर्टिंग की अपेक्षा करें।
संबंधित लेख

सबसे अधिक लोकप्रिय